सूर्य की बारह राशियों में स्थिति का फल

सूर्य मेष राशि में होने से जातक गौर वर्ण, बुद्धिमान, शूर, चतुर, यात्रा करने में रुचि लेने वाला, ठाठबाट वाला, उदार, अपने परिश्रम से अधिकार प्राप्त करने वाला, प्रसिद्ध एवं ख्यातिवान होता है।

सूर्य की बारह राशियों में स्थिति का फल

सूर्य की बारह राशियों में स्थिति का फल

सूर्य की बारह राशियों में स्थिति का फल 


मेष - सूर्य मेष राशि में होने से जातक गौर वर्ण, बुद्धिमान, शूर, चतुर, यात्रा करने में रुचि लेने वाला, ठाठबाट वाला, उदार, अपने परिश्रम से अधिकार प्राप्त करने
वाला, प्रसिद्ध एवं ख्यातिवान होता है।

वृष - सूर्य वृष राशि में होने से जातक कुशाग्रबुद्धि, हठी, मिलनसार, संगीत एवं कला में रुचि रखने वाला, परिश्रमी, भोग विलास में विशेष रुचि रखने वाला, धीरे-धीरे नियमित रूप से काम करने वाला होता है।

मिथुन - सूर्य मिथुन राशि में होने से जातक विद्वान, कुशाग्र बुद्धि, बातूनी, अध्ययनशील, आलोचक, धनी, ज्योतिष में रुचि रखने वाला होता है।

कर्क - सूर्य कर्क राशि में होने से जातक अल्पधनी, तीक्ष्ण स्वभाव, अधिक परिश्रम से भी फल कम मिलता है। यात्रा प्रेमी, प्रायः दूसरों के अधीन काम करने वाला होता है।

सिंह - सूर्य सिंह राशि में होने से जातक स्वाभिमानी, हठी, तेजस्वी, बलवान, उदार, बुद्धिमान, उग्र स्वभाव, वन-पर्वत में प्रसन्न रहने वाला, दूसरों पर अधिकार जमाने वाला होता है।

कन्या - सूर्य कन्या राशि में होने से जातक काव्य, गणित, इतिहास, साहित्य, चित्रकला आदि में विशेष अभिरुचि रखने वाला, स्मरण शक्ति तीव्र, बुद्धिमान, पत्रकारिता या लेखन कार्य से लगाव रखने वाला तथा स्त्रियों जैसे स्वभाव का होता है।

तुला - सूर्य के तुला राशि में होने से जातक उत्साह शून्य, हीन आचरण, मलिन मन, कामुक प्रवृत्तियां, स्त्रियों के प्रभाव से कठिनाइयां उठाने वाला, दूसरों से दबने वाला तथा असभ्य होता है।

वृश्चिक - सूर्य के वृश्चिक राशि में होने से जातक साहसी, उग्र स्वभाव, विद्वान, पुलिस अधिकारी या सेना में उच्च पद प्राप्त करने की एवं सर्जन बनने की योग्यता, सिद्धान्तहीन।

धनु - सूर्य के धनु राशि में होने से जातक धनवान, विश्वस्त, उच्चस्तरीय रहन-सहन, प्रसिद्ध, शीघ्र क्रोधित होने वाला, शिल्प विद्या तथा चिकित्सा में कुशल हो सकता है।

मकर - सूर्य के मकर राशि में होने से जातक हीन आचरण, अति लोभी, निंद्य कार्यरत, अशान्त, कम विद्वान, दूसरों के धन को प्राप्त करने की इच्छा करने वाला, समझदार, परिश्रमी, प्रगति बहुत धीमी।

कुम्भ - सूर्य के कुम्भ राशि में होने से जातक निर्धनता एवं भाग्य हीनता, सन्तान कष्ट, ज्योतिष में रुचि, बाधाएं और कठिनाइयां। कुम्भ का सूरज लग्न में हो, तो हृदय रोग की भी सम्भावना रहती है।

मीन - सूर्य के मीन राशि में होने से जातक धनवान, धार्मिक वृत्ति, स्त्रियों को प्रिय, स्त्रियों द्वारा बहुत आदर मान पाता है।

You are Viewing This Page of site https://rajyantra.com

Social Share

You might also like!