नमक के चमत्कारी उपयोग - 1

नमक एक भाग और प्याज या राई दो भाग एक साथ पीसकर उसकी पुल्टिस फोड़े-फुन्सियों पर बाँधने से वे या तो बैठ जाती हैं या पक कर फूट जाती हैं। नमक मिले पानी से नहाने से शरीर पर फैली फोड़े फुन्सियों में लाभ होता है।

नमक के चमत्कारी उपयोग - 1
salt and health


नमक के चमत्कारी उपयोग

नमक एक भाग और प्याज या राई दो भाग एक साथ पीसकर उसकी पुल्टिस फोड़े-फुन्सियों पर बाँधने से वे या तो बैठ जाती हैं या पक कर फूट जाती हैं। नमक मिले पानी से नहाने से शरीर पर फैली फोड़े फुन्सियों में लाभ होता है। नमक और गेहूँ की भूसी को पानी में उबालकर खुजली के स्थान को धोने से खुजली शान्त होती है। नमक को नींबू के रस में मिलाकर दाद पर लगाने से दाद नाश होता है । पिसा हुआ नमक आग से जले हुये स्थान पर तुरत छिड़क देने से उस स्थान पर फफोले नहीं पड़ते। 

नमक को बारीक पीसकर और उसे सरसों के तेल में मिलाकर शरीर पर मलने से शरीर की खुश्की दूर हो जाती है। नमक मिले पानी से चेहरा धोने से मुंहासे नष्ट हो जाते हैं। नमक और राई आधी कच्ची और आधी सेंकी हुई पीसकर और कड़वे तेल में मिलाकर लगाने से सिर की गंज में लाभ होता है।


पेट के रोगों में भोजन के कुछ समय पूर्व अदरख के साथ सेंधा नमक खाने से भूख खुलकर लगती है। केले के रस में काला नमक मिलाकर पीने से पेट का दर्द दूर होता है। सेंधा नमक और गुड़ को पानी के साथ घोटकर सूंघने से हिचकी आनी बंद हो जाती है। नमक को घी में मिलाकर पेट पर मालिश करने से पेट का अति तीव्र दर्द भी ठीक हो जाता है और अफरा भी मिट जाता है। नमक के पानी में भिगोई हुई बत्ती गुदा में रखने से तुरंत दस्त हो जाता है। नमक तीन तोला और गर्म पानी एक सेर मिलाकर पीने से तुरन्त वमन होकर पेट साफ हो जाता है। नमक मिला पानी पीने से मुंह से लार बहना एक सप्ताह में ही रुक जाता है। नमक व सत्यानाशी की जड़ दो माशा प्रात:सायं एक मास तक लेने से बवासीर में लाभ होता है। नमक को आक के दूध की तीन भावना देकर कपड़-मिट्टी करके फूंक दे, फिर उस भस्म को ढाई रत्ती की मात्रा में खाने से दमा में लाभ होता है। नमक और केला मिलाकर खाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। नमक को बारीक पीसकर नाभि में रखै और ऊपर से बूंद-बूंद कर पानी टपकावै तो बंद पेशाब उतरै। ठन्डे पानी में नमक मिलाकर पीने से अजीर्ण दूर होता है। नमक मिले पानी से गरारा करने से मुख को दुर्गन्ध दूर होती है। गरम जल में नींबू का रस और नमक मिलाकर पीने से कब्ज दूर होता है।