वज्रासन और योगमुद्रासन

वज्रासन और योगमुद्रासन

वज्रासन और योगमुद्रासन

वज्रासन और योगमुद्रासन


वज्रासन

बिछे हुए आसन पर दोनों पैरों को घुटनों से मोड़कर एडियों पर बैठ जायें। पैर के दोनों अंगूठे परस्पर लगे रहें। पैर के तलवों के ऊपर नितम्ब रहें। कमर बिल्कुल सीधी रहे, दोनों हाथ को कुहनियों से मोड़े बिना घुटनों पर रख दें। हथेलियाँ नीचे की ओर रहें। दृष्टि सामने स्थिर कर दें। पाँच मिनट से लेकर आधे घण्टे तक वज्रासन का अभ्यास कर सकते हैं। बज्रासन लगाकर भूमि पर लेट जाने से सुप्त वज्रासन होता है।


योगमुद्रासन

पद्मासन लगाकर दोनों हाथों को पीठ के पीछे ले जायें। बायें हाथ से दाहिने हाथ की कलाई पकड़ें। दोनों हाथों को खींचकर कमर तथा रीढ़ के मिलन स्थान पर ले जायें। अब रेचक करके कुम्भक करें। श्वास को रोककर शरीर को आगे झुकाकर भूमि पर टेक दें। फिर धीरे-धीरे सिर को उठाकर शरीर को पुन: सीधा कर दें और पूरक करें।

Social Share

You might also like!