भोजन के हानिकारक संयोग

दूध के साथ दही,नमक, खट्टी चीजें, इमली, खरबूज, नारियल, मूली या उसके पत्ते, तुरई, बेल, कुल्थी, खट्टे फल, सत्तू हानिकारक होत हैं । दूध में गुड़ घोलकर सेवन नहीं करना चाहिए। इससे प्रत्यक्ष में ही दूध फट जाता है । कटहल या तेल से बने पदार्थ भी हानिप्रद हैं।

भोजन के हानिकारक संयोग

भोजन के हानिकारक संयोग


भोजन के हानिकारक संयोग
दूध के साथ - दही,नमक, खट्टी चीजें, इमली, खरबूज, नारियल, मूली या उसके पत्ते, तुरई, बेल, कुल्थी, खट्टे फल, सत्तू हानिकारक होत हैं । दूध में गुड़ घोलकर सेवन नहीं करना चाहिए। इससे प्रत्यक्ष में ही दूध फट जाता है । कटहल या तेल से बने पदार्थ भी हानिप्रद हैं।
दही के साथ - खीर, दूध, पनीर, गर्म भोजन, केला या केले का साग। खरबूजा, मूली इत्यादि नहीं लेना चाहिए।
घी के साथ - ठंडा दूध, ठण्डा पानी और समान मात्रा में शहद हानिप्रद है।
शहद के साथ - मूली, खरबूजा, समान मात्रा में घी, अंगूर, वर्षा का जल और गर्म जल हानिकारक होते हैं।
खीरा के साथ - ककड़ी नहीं लेनी चाहिए।
कटहल के बाद - पान हानिप्रद है।
मूली के साथ - गुड़ हानिप्रद है।
चावल के साथ - सिरका हानिप्रद हैं।
खीर के साथ - खिचड़ी,खट्टे पदार्थ, कटहल, सत्तू नहीं लेने चाहिए।
गर्म जल के साथ - शहद हानिप्रद होता है।
शीतल जल के साथ - मूंगफली, घी, तेल, खरबूजा, अमरूद, जामुन, ककड़ी, खीरा, गर्म दूध अथवा गर्म भोजन नहीं लेना चाहिए।
खरबूज के साथ - लहसुन, मूली या उसके पत्ते, दूध अथवा दही हानिप्रद होते हैं।
तरबूज के साथ - पोदीना या शीतल जल नहीं लेना चाहिए।
चाय के साथ - खीरा, ककड़ी या ठंडे फल या ठंडा पानी नहीं लेना चाहिए।
गर्म भोजन के साथ - ठंडे भोजन या ठंडे पेय हानिप्रद होते हैं।

काँसा, ताँबा या पीतल के पात्रों में रखी हुई वस्तु जैसे घी तेल, खटाई, दही, छाछ, दूध, मक्खन, रसदार दालें,सब्जियाँ आदि विषाक्त हो जाती हैं, अत: उनमें देर तक रखे पदार्थ नहीं खाने चाहिए । एल्यूमीनियम एवं प्लास्टिक के बर्तनों में तरल पदार्थ रखने, उबालने एवं खाने पीने से विभिन्न प्रकार के रोग पैदा होते है।

You are Viewing This Page of site https://rajyantra.com

Social Share

You might also like!